Header Ads Widget

Responsive Advertisement

सीमा दर्शन योजना 2022 | सीमा दर्शन प्रोजेक्ट क्या है ?

सीमा दर्शन योजना 2022 | Seema Darshan Yojna  | Seema Darshan परियोजना  | सीमा दर्शन परियोजना | सीमा दर्शन योजना क्या है ? | इस  परियोजना का उद्देश्य एवं लाभ-

 जैसा की हम जानते हैं हमारा देश काफी विशाल आबादी वाला देश है और यह  भौगोलिक रूप  से भी काफी जटिल एवं बड़ा  हैं, इसलिए देश की आंतरिक सुरक्षा एवं बाह्य सुरक्षा व्यवस्था के लिए हर दम चुनौतियां का संकट  बना  रहता है। इन परेशानियों  में आतंकवाद, तस्करी , घुसपैठ जैसी चीजें सम्मिलित हैं। इसलिए इतने बड़े देश की रक्षा और सुरक्षा करने के लिए भारत सरकार द्वारा एक बड़ी सेना की व्यवस्था की गई है जिसके पास देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी है। सेना के ऊपर से सुरक्षा का भार हल्का करने के लिए भारत सरकार द्वारा सेना में ही कई  और सेना के अंग बनाये गए हैं , जैसे बीएसएफ(BSF ), अर्ध सैनिक बल(ASB ), सीआरपीएफ(CRPF ), आई टी बी पी (ITBP ), असम राइफल्स (Assam Riffles),सी आई एस एफ (CISF ) एस एस बी (SSB) आदि  भी देश की सुरक्षा व्यवस्था सँभालने का काम करते हैं। इन सब की कारणों  से सेना अब फ्री  होकर अपना काम संपन्न कर रही है । उन सेनाओ में से एक  बीएसएफ अर्थात बॉर्डर सिक्योरिटी(Border Security Force ) फोर्स यानी सीमा सुरक्षा बल। इस  बल को  भारत के  चारों तरफ की सीमा के  सुरक्षा का जिम्मा  दिया गया है । बीएसएफ का मुख्य कार्य भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा करना है।


सीमा दर्शन योजना 2022
सीमा दर्शन योजना 2022 




इस बल के  द्वारा सीमा  पर बहुत ही प्रसंशनीय व अतुल्य काम  किए जा रहे हैं। ये लोग सीमा पर आम नागरिकों के प्रति भी काफी उदार एवं मानवीय व्यवहार करते हैं। वह अपनी जान की परवाह किये बगैर देश की सुरक्षा चाक-चौबंद रखते हैं। बीएसएफ द्वारा अनेक मिलिट्री ऑपरेशन सफलतापूर्वक संपन्न किये जा चुके हैं। इससे सिद्ध होता है कि बीएसएफ देश के प्रति कितनी साहसी और  निष्ठावान है। बीएसएफ के अदम्य साहस को  भारत के नागरिकों को दिखाने के लिए केंद्रीय  सरकार के सहयोग एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा सीमा दर्शन परियोजना 2022 का शुभारम्भ किया गया है। इस योजना की सहायता से नागरिक बीएसएफ के अदम्य साहस की कहानियों को प्रत्यक्ष रूप से  देख पाएंगे । इसलिए  सीमा दर्शन परियोजना 2022 की पूरी जानकारी जैसे सीमा दर्शन प्रोग्राम क्या है, इसके उद्देश्य तथा लाभ क्या है, सीमा दर्शन परियोजना कहां शुरू हो रही है ?, आदि  की पूरी  जानकारी इस लेख में उपलब्ध है , अतः इस  को अंत तक जरूर पढ़ने की कृपा करें। 



    सीमा दर्शन योजना 2022

    भारत की सुरक्षा का जिम्मा काफी चुनौतीपूर्ण है। इन चुनौतियों से लड़ने  के लिए भारत सरकार ने कई  फोर्सेज का गठन किया गया है। इनमें से बीएसएफ काफी महत्वपूर्ण बल है जिसके जिम्मे भारत की पश्चिमी तथा पूर्वी सीमा की सुरक्षा है। बीएसएफ द्वारा सीमा पर देश हित में काफी  कार्य किए जाते रहे हैं इसलिए बीएसएफ के चौंका देने वाले  कार्यों को जनता को दिखाने के लिए केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्रीमान अमित शाह द्वारा 10 अप्रैल 2022 को गुजरात के बनासकांठा जिले में भारत और पाकिस्तान की सीमा पर स्थित नडाबेट नामक स्थान पर सीमा दर्शन पर परियोजना 2022 का उद्घाटन किया गया है। सीमा दर्शन परियोजना के उद्घाटन के अवसर पर गुजरात के मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेंद्र पटेल तथा गुजरात राज्य के पर्यटन मंत्री पुनेश मोदी तथा बीएसएफ के महानिदेशक भी उपस्थित थे।


    सीमा दर्शन परियोजना 2022 के उद्घाटन के समय गृहमंत्री श्री अमित शाह जी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के अगुवाई में यह बहुउद्देशीय तथा पर्यटन को बढ़ावा देने वाली परियोजना को पूरा किया गया है। इसके साथ साथ उन्होंने कहा कि हमारा देश दिन ब दिन विश्व में नए कीर्तिमान के झंडे गाड़ रहा है ।क्योंकि हमारे सीमा सुरक्षा बल सुरक्षा की जिम्मेदारी पूर्वक  निभा रहे हैं। यहां पर बताते चलें कि बीएसएफ विश्व का सबसे बड़ा सीमा सुरक्षा बल है। बीएसएफ का स्थापना 1 दिसंबर 1965 को हुई थी तथा इसका मुख्यालय दिल्ली में है एवं इसका आदर्श वाक्य है “जीवन पर्यंत कर्तव्य” 


    सीमा दर्शन परियोजना गुजरात के नडाबेट नामक स्थान पर पंजाब के बाघा अटारी बॉर्डर की तर्ज पर ही विकसित किया गया है । यह परियोजना गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग एवं बीएसएफ गुजरात फ्रंटियर द्वारा एक साझा पहल के द्वारा विकसित की गई है। सीमा दर्शन योजना के पूर्ण होने से यहां टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा और रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे। सीमा दर्शन प्रोग्राम की कुल अनुमानित लागत लगभग 125 करोड़ रुपए रिपोर्ट की गई है।


    इसे भी पढ़ें : पीएम गति शक्ति योजना 2022 


    सीमा दर्शन योजना 2022 के कुछ मुख्य बिंदु-


    योजना

    सिद्ध प्रयोजन सीमा दर्शन परियोजना 2022

    उद्देश्य

    बीएसएफ के रोजमर्रा की लााइफ  एवं साहसिक कार्यों कोो आम  नागरिकों को दिखाना

    लाल लाभ

    पर्यटन तथा रोजगार को बढ़ावा देना

    शुरुआत

    केंद्र  सरकार एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग तथा बीएसएफ द्वारा मिलकर 

    वर्ष

    10 अप्रैल 2022

    योजना लागत

    125 करोड़ों रुपए




    सीमा दर्शन योजना का आकर्षण-

    सीमा दर्शन प्रोग्राम में बीएसएफ के जवानों की कार्यशैली का सजीव चित्रण किया जाएगा। जिससे देश की आम जनता बीएसएफ के साहसिक कार्यों के बारे में जान पाएगी । बीएसएफ के मुख्य आकर्षण इस प्रकार हैं-


    • बीएसएफ के प्रमुख आकर्षणों में बीएसएफ सैनिकों द्वारा रोज की परेड भी शामिल है परेड को देखकर दर्शक रोमांचित एवं गर्वित ही महसूस करेंगे।

    • देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की बलि देने वाले हमारे वीर सैनिकों की याद में “अजय प्रहरी” नाम का एक भव्य स्मारक भी बनाया गया है, जिसको दर्शक आसानी से देख सकेंगे।

    • सीमा दर्शन प्रोग्राम के द्वारा पर्यटक नदाबेट मे भारतीय जवानों एवं बीएसएफ के वीर जवानों के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले विभिन्न हथियारों जैसे- सभी प्रकार की मिसाइल, T-55 टैंक , आर्टिलरी गन ,टारपीडो, राडार , बिंग, लड़ाकू विमान जैसे मिंग 21 , mig-27 आदि भी देख सकेंगे।

    सीमा दर्शन परियोजना 2022 का उद्देश्य-

    सीमा दर्शन परियोजना का शुभारंभ भारत सरकार एवं गुजरात सरकार के द्वारा संयुक्त रूप से की गई है। गुजरात में स्थित नडाबेट नामक स्थान को गुजरात का बाघा बॉर्डर भी कहा जा सकता है। जैसा कि ज्ञात है नडाबेट में वर्ष 1971 के भारत और पाकिस्तान युद्ध के समय महत्वपूर्ण योगदान दिया था। सीमा दर्शन योजना के द्वारा कम आबादी और कम वनस्पति वाले क्षेत्रों में बॉर्डर पर पर्यटन का विकास करने पर मुख्यता ध्यान लगाया गया है। इस योजना से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा रोजगार पैदा होंगे और सीमा पर घुसपैठ, तस्करी जैसी गतिविधियों  को भी रोकने में मदद मिलेगी ।


    सीमा दर्शन प्रोजेक्ट का उद्देश्य आम लोगों को अच्छे अवसर प्रदान करना है जिससे वह जान सकें कि भारत की सीमाओं पर बीएसएफ बलों के सैनिकों का जीवन कितना संघर्ष पूर्ण व किस प्रकार के  संघर्ष में होता है तथा नडाबेट को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करना है। सीमा दर्शन योजना के द्वारा  देश के नागरिकों को अपने देश की रक्षा कर रहे  बीएसएफ के जवानों की जीवन की शैली तथा दैनिक कार्यों को प्रत्यक्ष रूप से एवं नजदीक से देखने का मौका प्रदान करना है।


    सीमा दर्शन योजना 2022 के लाभ-

    गृहमंत्री श्री अमित शाह जी द्वारा 10th अप्रैल 2022 को गुजरात के बनासकांठा जिले के नडाबेट में  सीमा दर्शन परियोजना 2022 का उद्घाटन किया गया। सीमा दर्शन योजना का मुख्य लाभ पर्यटन को बढ़ाना है तथा जिससे वहां रोजगार बढ़ सके । सीमा दर्शन परियोजना 2022 के और लाभ इस प्रकार हैं-


    • सीमा दर्शन परियोजना 2022 के द्वारा देश के आम नागरिक बीएसएफ के साहसिक कार्यों से रूबरू हो सकेंगे तथा वह बीएसएफ के जवानों की देशप्रेम को देखकर खुद में भी देशप्रेम का जज्बा जागृत कर सकते हैं।
    • सीमा दर्शन परियोजना के द्वारा देश के आम नागरिकों को बीएसएफ एवं सेना के प्रति विश्वास में वृद्धि होगी तथा उन्हें विश्वास होगा कि उनके देश की सुरक्षा सुरक्षित हाथों में है।
    • इस के माध्यम से देश के आम नागरिक सीमा पर जाकर बीएसएफ के द्वारा युद्ध में इस्तेमाल हुए हथियारों को देख सकेंगे ।
    • सीमा दर्शन प्रोजेक्ट के द्वारा देश के आम नागरिक मिसाइल टैंक, तोप, लड़ाकू विमान, मशीन गन , रडार जैसे शस्त्र को पास से देख कर रोमांचित महसूस करेंगे।
    • बीएसएफ द्वारा आयोजित सैन्य परेड को देख सकेंगे उससे उनको एक प्रत्यक्ष अनुभव प्राप्त होगा सेना के परेड का ।
    • सीमा दर्शन परियोजना 2022 के द्वाराव वहां लोगों के आवागमन से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा जिससे रोजगार की बड़े पैमाने पर उत्पत्ति होगी होगी जो की काफी अच्छी चीज है हमारे देश के लिए ।
    • सीमा दर्शन project  के शुरू हो जाने से सीमा पार से घुसपैठ करने वाले , तस्करी करने वाले  जैसी गैर कानूनी गतिविधि को रोका जा सकता है।
    • पर्यटकों के लिए नडाबेट में गुजरात सरकार की ओर से कई सारी सुविधाओं को विकसित किया गया है यहां पर सीमा दर्शन परियोजना के तहत 3-4 arival फूड प्लाजा भी बनाए गए हैं। फूड प्लाजा में स्थानीय व्यंजन के साथ साथ देश के मशहूर व्यंजनों का पूरा मजा ले सकते हैं।
    • सीमा दर्शन प्रोजेक्ट यदि सफल जाता है तो यहां पर फूड इंडस्ट्री, टूरिज्म इंडस्ट्री, होटल इंडस्ट्री और कई सारे उद्यम को बढ़ावा मिलेगा।
    • बीएसएफ के परेड को प्रत्यक्ष रूप से देखने लिए एक  ग्राउंड भी तैयार किया जाएगा जिसकी क्षमता 5000 लोगों के बैठने की होगी ।

    मूल्यांकन (Conclusion) -

    सीमा दर्शन परियोजना 2022 को पढ़ने के बाद कहा जा सकता है कि यह योजना देश के आम नागरिकों में देशप्रेम और भक्ति की भावना में वृद्धि करेगी तथा साथ ही लोग बीएसएफ के दैनिक कार्यों को पास से देख सकेंगे जिससे वह काफी प्रेरित भी होंगे,  उसके साथ ही साथ सीमा दर्शन प्रोजेक्ट से पर्यटन एवं रोजगार को भी बढ़ाने में मदद मिलेगी।


    अतः प्यारे पाठकों सीमा दर्शन परियोजना के बारे में दी गई जानकारी अगर आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें और यदि कोई हमें सुझाव देना चाहते हैं या कुछ पूछना चाहते हैं तो कमेंट कर सकते हैं ।


    FAQ-


    प्रश्न- सीमा दर्शन परियोजना 2022 क्या है?

    उत्तर- सीमा दर्शन परियोजना आम  नागरिकों में राष्ट्रवाद की भावना को विकसित करना तथा उन्हें नडाबेट में सीमा भ्रमण कराने के लिए शुरू की गई है।


    प्रश्न- सीमा दर्शन Yojna  2022 का उद्देश्य क्या है?

    उत्तर – इस योजना का  मुख्य उद्देश्य पर्यटन को बढ़ावा देना तथा रोजगार  के नए अवसर सृजित करना व बीएसएफ के रोजमर्रा की जीवनशैली से  देश की जनता को रूबरू कराना है।


    प्रश्न- सीमा दर्शन Project  कहां शुरू किया  गया  है ?

    उत्तर- सीमा दर्शन परियोजना गुजरात के बनासकांठा जिले के नडाबेट नाम के एक स्थान से शुरू की गई है।


    प्रश्न- सीमा दर्शन Program  किसके द्वारा शुरू किया गया है?

    उत्तर- सीमा दर्शन प्रोग्राम केंद्र सरकार के सहयोग एवं गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग तथा बीएसएफ के सहयोग से शुरू की गई ।


    प्रश्न- सीमा दर्शन परियोजना 2022  की कुल लागत कितनी है?

    उत्तर- सीमा दर्शन प्रोजेक्ट की कुल लागत 125 करोड़ रुपए बताई गई है।

    एक टिप्पणी भेजें

    0 टिप्पणियाँ